केवल सच के साथ

6/recent/ticker-posts

Ad Code

Responsive Advertisement

गड़हनी अस्पताल रोड में जलजमाव, कब इससे लोगो को मिलेगा निजात

भोजपुर जिला में मानूसन के दस्तक देते ही गड़हनी प्रखंड क्षेत्र में तथाकथित विकास की पोल खुल गई।सरकार व जनप्रतिनिधियों की नाकामी की कहानी यह तस्वीर बयां कर रही है।गड़हनी प्रखंड के लोगों को अगर अस्पताल जाना हो तो इसी गन्दी नाली के पानी से होकर गुजरना होगा।मरता क्या नहीं करता,सरकारी कर्मी को ड्यूटी हर हाल में करना है तो मरीज को इलाज भी करवाना है।पीएचसी गड़हनी वाले रास्ते मे जलजमाव हो जाने से लोगों को काफी दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है।इसी रास्ते से प्रतिदिन अस्पताल कर्मी और बीआरसी में प्रतिनियुक्त शिक्षक सहित ग्रामीण जनता आते व जाते हैं।लोगों ने बताया कि अस्पताल वाले रास्ते के बगल में तालाब/पोखरा/गढ़हा था जिसमें आस पास ने नाली का पानी इकठा हो जाता था लेकिन अतिक्रमण का शिकार हो जाने से हल्की बरसात होते ही रास्ता अवरुद्ध हो जाता है।


बरसात में छत से टपकता है पानी, जर्जर हालात में है अस्पताल भवन


गड़हनी प्रखंड का प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र अपनी बदहाली का रोना रो रहा है।अस्पताल में प्रतिनियुक्त कार्यरत कर्मी व इलाजरत मरीज का  जान हर वक्त जोखिम से भरा रहता है ।अस्पताल के छतों से परत-दर परत गिरते रहता है।जो खतरा से खाली नहीं है।ऐसे में कार्यरत डॉक्टर व कर्मी के साथ साथ मरीज भी चिंतित रहते है।बरसात शुरू होते ही अस्पताल परिसर में जलजमाव के साथ छतों से पानी भी टपकने लगता है।


जर्जर भवन का जिम्मेवार कौन


पीएचसी गड़हनी जर्जर हालत में हैं।बरसात के होते ही छतों से पानी टपकता है।वहीं परत दर परत छत से गिट्टी गिरता है।महज एक दशक में अस्पताल भवन की बदहाली का जिमेवार कौन है?क्या भवन निर्माण के दौरान गुणवत्ता का ख्याल नहीं रखा गया या निर्माणोपरांत रख-रखवा व रिपेयरिंग सही समय पर नहीं कि गई यह तो जांच होने के बाद पता चलेगा।

 

Post a Comment

0 Comments